Breaking News

बेगूसराय : बेखौफ अपराधियों ने घर में घुस की मां-बेटे की हत्या, बहू की स्थिति नाजुक

नूर आलम

चेरियाबरियारपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत खांजहपुर गांव के बभनटोली वार्ड नंबर-03 में सोमवार की रात्रि अपराधियों ने नरसंहार के नियत से सोए हुए लोगों पर हमला कर सनसनीखेज घटना को अंजाम दिया है. घटना मे मां-बेटे की मौत घटनास्थल पर ही हो गई जबकि जख्मी बहू जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रही है.

सूत्रों की मानें तो अपराधी नरसंहार की नीयत से घटना को अंजाम देने के फिराक में थे. परंतु उसमें सफल नही हो पाए, चूंकि अपराधियों के वार के दौरान मृतक की पत्नी जख्मी अवस्था मे ही घर से बाहर निकलकर भागी एवं घने फूल के पेड़ों के बीच छिपकर बेहोश हो गई. वहीं अपराधियों को शायद यह पता ही नही था कि उनके दो बेटों में से एक बेगूसराय तथा दूसरा छत पर सोया हुआ था. अपराधियों ने इस वारदात मे सिर्फ़ हताहत के विकलांग व मंदबुद्धि बेटे को ही घर में सुरक्षित छोड़ दिया.

इस घटना में अपराधियों ने तीन लोगों को हथौड़ा, रॉड और धारदार हथियार से हमला किया. जिससे घटना स्थल पर ही मां स्व हरेराम सिंह की पत्नी लगभग 60 वर्षीया आंगनबाड़ी साहायिका ऊषा देवी एवं 42 वर्षीय मुकेश सिंह की मौत हो गई. जबकि बहु रत्ना देवी की हालात नाजुक बनी हुई है. वहीं मामले में पुलिस गहन तफ्तीश कर रही है, पर हत्या का कोई सुराग नही मिल पाया है. लोगो के मुताबिक हत्या जमीन विवाद में हुई है. लेकीन इसकी आपराधिक पुष्टि नही होना अभी बाकी है. हालांकि पुलिस शक के आधार पर मृतक के चचेरे तीन भाई हरेकृष्ण सिंह के पुत्र चंदन सिंह, राजेश सिंह एवं रंजन सिंह को हिरासत मे लेकर पुछताछ कर रही है. वहीं हिरासत मे लिए गए राजेश के कपड़े पर खुन के धब्बे लोगों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है.

घटना स्थल पर एएसपी अभियान अमृतेश कुमार, डीएसपी सूर्यदेव कुमार, पुलिस निरीक्षक विभा कुमारी, थानाध्यक्ष नीरज कुमार सिंह, मंझौल ओपी अध्यक्ष सुबोध कुमार सहित पुलिस बल छानबीन कर रहे थे. जानकारी अनुसार मृतक मुकेश सिंह एक किसान था और इलाके के बच्चो को मुफ्त में पढ़ाने का काम करता था. वहीं ग्रामीणों की माने तो हताहत मुकेश का उसके चचेरे चाचा हरेकृष्ण सिंह से जमीन को लेकर विवाद चल रहा था. पुस्तैनी जायदाद मे से मुकेश को बेदखल किए हुए था. मुकेश उसी जायदाद मे से कुछ जमीन बेचने की कोशिश कर रहा था. क्योंकि हताहत मुकेश घर बना रहा था. जिसका छत मुश्किल से दस दिन पहले ढलाया गया है. उसके निर्माण के लिए पिलर ढालने के वक्त चंदन ने झगड़ा करते हुए मारपीट की घटना को अंजाम दिया था. पुलिस घटना के हरेक बिंदुओं पर बारीकी से छानबीन कर रही है. समाचार प्रेषण तक प्रशासन ग्रामीणों के मॉब के सामने शव उठाकर पोस्टमार्टम हेतु भेजने में सफल नहीं हो पाई है.

x

Check Also

बेगूसराय : डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने की क्राइम की समीक्षा बैठक

पिंकल कुमार बेगुसराय में अनकंट्रोल अपराधियो पर नकेल कसने के लिए बिहार के डीजीपी ने कई आवश्यक दिशा निर्देश जारी किया है. इस संबंध में ...