Breaking News

चाईबासा : जगन्नाथपुर पुलिस की सक्रियता से नाबालिग बच्चा सकुशल पहुँचा घर

संतोष वर्मा

चाईबासा के जगन्नाथपुर थाना प्रभारी मधुसूदन मोदक की मानवता, तत्परता एवं सक्रियता के कारण एक बार फिर एक लापता नाबालिक बालक विभीषण लागुरी (10 वर्ष) सोमवार को सकुशल अपने परिजनों को मिल गया.

ज्ञात हो कि रविवार की शाम एक नाबालिग बच्चा गुम होकर जगन्नाथपुर बाजार में घूम रहा था. बच्चे को अकेला घूमता देख एक व्यक्ति उसे थाना जाकर थाना प्रभारी मधुसूदन मोदक के पास सौप दिया. थाना प्रभारी मोदक द्वारा पूछने पर बच्चे ने अपना नाम विभीषण लागुरी, पिता भूषण लागुरी ग्राम सिल्दौरी, थाना जेटिया बताया. थाना प्रभारी ने पहले संध्या पेट्रोलिंग पार्टी के सअनि सोमाय टुडू से बाजार में घूमकर बच्चे के परिजन को खोजने का निर्देश दिया. जब बच्चे का परिजन नही मिले तो रात होने एवं बच्चे का साथ कुछ अनहोनी न हो यह सोचकर थानाप्रभारी ने बच्चे को थाना में ही रख लिया तथा स्थानीय पत्रकारो के माध्यम से बरामद नाबालिक बच्चे का नाम, पता फोटो सहित व्हाट्सएप न्यूज़ ग्रुप में डलवा दिया.

न्यूज़ ग्रुप में नाम और फ़ोटो देखकर बच्चे के पिता भूषण लागुरी एवं नानी टूरकी कुई जगन्नाथपुर थाना पहुँचे तथा लापता होने के 12 घंटे बाद बच्चे को सकुशल प्राप्त करते हुए थाना प्रभारी मोदक का आभार प्रकट किया. बच्चे की नानी टूरकी कुई ने बताया कि मेरा नाती विभीषण लागुरी मेरे साथ फोटो खिंचवाने के लिए बाँसपानी, थाना कुमारडूंगी से जगन्नाथपुर बाजार आया था. इसी दौरान हमसे बिछड़ गया. थाना प्रभारी मधुसूदन मोदक ने बच्चे के परिजनों को अपने बच्चों पर ध्यान देने और बच्चों का सही तरीके से देखभाल करने की सलाह दी.

x

Check Also

पाकुड़ : 70 वर्ष के होने के बावजूद मो इस्लाम नौनिहालों में जगा रहे शिक्षा का अलख

मक़सूद आलम किसी ने खूब कहा है कि पंखों से कुछ नहीं होता हौसलों से उड़ान होती है. अगर आदमी मन में ठान ले तो ...