Breaking News

सीवान : सशस्त्र सीमा बल में नौकरी मिलने पर धर्मशीला का जूनियर खिलाड़ियों ने किया जोरदार स्वागत

राहुल कुमार सिंह

सीवान के मैरवा स्थित रानी लक्ष्मीबाई स्पोर्ट्स एकेडमी लक्ष्मीपूर की स्टार गोलकीपर धर्मशीला कुमारी को सशस्त्र सीमा बल से सीधे हिमेश्वर खेल विकास केंद्र लक्ष्मीपूर पहुंचने पर हिमेश्वर खेल विकास केंद्र की खिलाड़ियों में खुशी की लहर दौड़ गई. धर्मशीला को एसएसबी की वर्दी में देख जूनियर खिलाड़ियों में खुशी देखते बन रही थी. धर्मशिला के गृह मैदान पहुंचने पर खिलाड़ियों ने फूल मालाओं एवं आरती कर स्वागत किया. इनके स्वागत के लिए ब्लूमबर्ड्स स्कूल एवं हिमेश्वर खेल विकास केंद्र के सैकड़ों खिलाड़ी उपस्थित थे.

इस अवसर पर संजय पाठक ने बताया कि धर्मशिला के स्वागत में एक प्रदर्शनी मैच का आयोजन किया गया. जिसमें ब्लूमबर्ड्स स्कूल के निदेशक प्राचार्य तनवीर अहमद सहित विद्यालय के सैकड़ों छात्रों ने धर्मशीला का स्वागत किया. धर्मशिला ने अपने संबोधन में कहा कि आज हमें बेटा और बेटी के अंतर के खाई को पाटने की जरूरत है. बेटियों को बेटे की तरह अपने भविष्य को संवारने के लिए स्वतंत्रता की जरूरत है. शहरी क्षेत्र के लोगों में जागरूकता तो आई है लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में अभी भी खाफी खाई है.

बताते चलें कि धर्मशिला बभनौली निवासी छोटे से किसान फागू राम एवं माता रामदेईया देवी की इकलौती संतान है. खेल मैदान पहुंचते ही धर्मशीला ने मैदान को माथा टेककर प्रणाम किया. उन्होंने कहा कि आज खेल के कारण ही उसे प्यार और प्रतिष्ठा मिल रही है, मै खेल और खिलाड़ियों के विकास के लिए हरसंभव प्रयास करुंगी. साथ ही उपस्थित सभी खिलाड़ियों को अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए अधिक से अधिक मेहनत करने की सलाह दी. धर्मशीला ने कहा कि आज वह जो कुछ भी है इसका सारा श्रेय रानी लक्ष्मीबाई स्पोर्ट्स एकेडमी एवं इसके कोच संजय पाठक एवं मेरे माता पिता को जाता है. वहीं प्राचार्य तनवीर अहमद ने बताया कि जैसे ही रानी लक्ष्मीबाई स्पोर्ट्स एकेडमी के निदेशक संजय पाठक से पता चला कि हमारे जिले की बेटी धर्मशीला प्रशिक्षण से छुट्टी में घर आ रही है तो हम अपने आपको रोक नहीं पाए और अपने बच्चों के साथ इनके स्वागत के लिए बडहरिया से मैरवा आ गए और अपनी जिले की बेटी जो खेल कोटा से नौकरी प्राप्त कर प्रशिक्षण से लौटी वर्दी में देखकर गर्व की अनुभूति की.

मौके पर ममता ‘सिंधु, रुबी, खुशबू, गायत्री व प्रियंका सहित अन्य खिलाड़ियों ने कहा कि दीदी को वर्दी में देखकर हमें भी मेहनत कर खेल कोटा से अर्द्ध सैनिक बल की वर्दी पहनने एवं देश सेवा के लिए प्रेरणा मिली है. हम साबित कर रहे हैं कि महिला भी मेहनत करने में पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है. इस अवसर पर राधा कुमारी, सलमा खातून, गंगा सिंह, राघव सिंह, विवेक कुमार, बसंत कुमार पाठक, संतलाल प्रसाद, शंभू कुमार सिंह सहित सैकड़ों लोगों ने अपनी जिले की बेटी धर्मशिला का स्वागत किया.

x

Check Also

कैमूर : प्रेसवार्त्ता में पूर्व विधायक रामचन्द्र सिंह ने लहराया हथियार

विशाल कुमार कैमूर में बुधवार को रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा के समर्थन में भभुआ के पूर्व विधायक और राजद नेता रामचंद्र सिंह यादव ने प्रेसवार्त्ता ...